ऑनलाइन वाला प्यार

विनोद कुमार दवे

ऑनलाइन वाला प्यार
(10)
पाठक संख्या − 3301
पढ़िए
लाइब्रेरी में जोड़े
उपासना
बहुत बढ़िया
कान्ति
बहुत खूब ...इस सच्चाई से सब रूबरू होते हुए भी ... पता नहीं क्या इस ऑनलाइन प्यार के चक्र में पड़ जाते हैं ।जो एक फ्लर्ट से शुरू किया जाता हैऔर अंत मे मृगतृष्णा बन कर रह जाता है।
shweta
accha sabak mila
Kanchan
बहत खूब
Seema
Very heart touching story Reality of life
Amit
Kafi smy bad ek behtarin kahani pdhne ko mili is rchna k liye apko behd shubhkamnayein
Priyanka
Very nice...i really like this story...
Rajeev
Bahut hi achhi story hai ekdm sch wali
hindi@pratilipi.com
+91 8604623871
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.