Vishnu Jaipuria
प्रकाशित साहित्य
65
पाठक संख्या
13,499
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

न ही विद्या न ही बाहुबल न ख़र्चन को दाम, मो सम पतित अपंग के बस एक ही भगवान। लिखने का शौक है, पर ज्ञान नही फिर भी प्रतिलिपि ने बिना भेदभाव के मुझे अपने विशाल मंच पर उसी कतार में खड़ा किया है, जंहा सब नम्बर एक है। मै नवाबों के शहर लखनऊ से हूँ, सरलता से अपना नाता कोई और मुझे न भाता।।


Miss lekhini

2,827 फ़ॉलोअर्स

geeta bhardwaj

22 फ़ॉलोअर्स

Vishal Kamble

365 फ़ॉलोअर्स

Vashi ARORA

52 फ़ॉलोअर्स

Kalpana Rawal

146 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.