shwati pandey
प्रकाशित साहित्य
26
पाठक संख्या
1,501
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

अपने हर लफ्ज़ को खमोशी से कह जाती हूँ, मैं वो अक्स-ए-खुशबू हूँ जो गोशे-गोशे में बिखरती जाती हूँ।। B.sc , M.sc(math)


Rajendra Kumar Shastri 'Guru'

3,368 फ़ॉलोअर्स

आरती सिंह "पाखी"

416 फ़ॉलोअर्स

प्रतिलिपि हिंदी

2,417 फ़ॉलोअर्स

Writer Ghazi "Ghazi"

0 फ़ॉलोअर्स

Joni Suthar

2 फ़ॉलोअर्स

Aakash Deep

298 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.