SHAILENDRA DUBEY
प्रकाशित साहित्य
88
पाठक संख्या
37,826
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

●●●●●दौड़ती भागती जिंदगी और इस भागमभाग में लहलुहान होकर बिखरती संवेदनाएं। इन्ही संवेदनाओं को समय समय पर समेटने की कोशिश और अपना शब्द देने का एक प्रयास !!!🌹🙏🙏🙏.....................(" शब्द बिखरे थे, समेटा तो कुछ कविताएं कुछ कहानियां थी"।.......✍️🤔) _____________________________________________________


dipti dwivedi

1 फ़ॉलोअर्स

Vinay Anand

261 फ़ॉलोअर्स

Prachi Sharma

841 फ़ॉलोअर्स

Jitendra Rathore

2 फ़ॉलोअर्स

तरुणा डहरवाल

1,525 फ़ॉलोअर्स

Deep Singh

12 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.