Saira Parvez
प्रकाशित साहित्य
12
पाठक संख्या
878
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

नर हो न निराश करो मन को ,कुछ काम करो, कुछ काम करो। ये जन्म हुआ किस अर्थ अहो ,समझो जिस से ये व्यर्थ न हो। कुछ तो उप्युक्त करो तन को, नर हो न निराश करो मन को । एम .ए. बीएड.


MUNNA "Banarasi"

200 फ़ॉलोअर्स

GOVIND PRIHAR

9 फ़ॉलोअर्स

Mankchand bhadu "Mankchand bhadu"

1,079 फ़ॉलोअर्स

Sonu Sharma

778 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.