Ruchi Gopal
प्रकाशित साहित्य
91
पाठक संख्या
10,026
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

8,9 वर्ष की थी तभी से ही रचनाओं को रचना प्रारम्भ कर दिया था परंतु उस वक़्त मुझे इस बात का ज्ञान नही था कि शब्दों को ख़ूबसूरती से कोरे कागज पर उकेरने की कला को रचना या कविता कहा जाता है । बाल्यकाल में रची गई रचनाये भी बाल पन से ओतप्रोत थी।गुज़रते वक़्त के साथ रचनाओं का स्वरूप भी बदलता गया । ईश्वर की असीम अनुकंपा से रचनाओं को रचने का क्रम सतत जारी है।माँ सरस्वती की कृपा से संगीत के क्षेत्र में भी जानकारी रखती हूं और नृत्य शिक्षिका के पद पर कार्यरत हूं।


SHRADDHA RANI "छोटी"

140 फ़ॉलोअर्स

Sonika Shukla "रोशनी"

873 फ़ॉलोअर्स

amit Prembhakt

104 फ़ॉलोअर्स

Namita Tandel

1,139 फ़ॉलोअर्स

Dr Sanjay Saxena

225 फ़ॉलोअर्स

Rajni Sharma

14 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.