Ritu asooja Rishikesh
प्रकाशित साहित्य
16
पाठक संख्या
623
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

“अपने लिये तो सभी जीते हैं , पर जीवन वह सफल है , जो किसी के जीने के लिये जिया जाये “ मनुष्य मन में भावनाओं का समुन्दर है उस समुन्दर में विचारों रूपी लहरों का तूफ़ान का आना जाना लगा रहता हैं , उन विचारों के तूफ़ान को सही दिशा देकर समाज के सामने कुछ प्रेरक मनोरंजक पेश कर सकूँ , बस यही उद्देश्य है मेरा ......


Dheeraj Agarwal "Kumar"

397 फ़ॉलोअर्स

विनोद कुमार दवे

3,300 फ़ॉलोअर्स

अनिल गर्ग

6,493 फ़ॉलोअर्स

Arjun Maurya Ramj

142 फ़ॉलोअर्स

गोपाल यादव "किकु"

1,939 फ़ॉलोअर्स

Neena Mahajan

877 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.