Pradeep jain Chandaliya
प्रकाशित साहित्य
265
पाठक संख्या
7,705
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

pradeep jain 'हमसफ़र ' गुरू जनो माफ करना मै कोई लेखक नहीं, मन के भावो को शब्द देता हूँ मेरा उद्देश्य आप सभी गुणी अनुभवी विचारकों को फोलो करना एवं आपसे बहुत कुछ सिखना है मेरा आपसे अनुरोध है कि आप सभी गुणी जन मुझे स्टार देने के बजाय मेरी रचना की कठोर समिक्षा करे मेरी सभी कमियों को उजागर करे न तो मै स्टार की दौड में रहना चाहता हूँ नही मै रैंक की रफ्तार चाहता हूँ मै सिर्फ आप गुणी जनो के सानिध्य मे रहकर काव्य को जीना चाहता हूँ सभी का आशीर्वाद चाहता हू सभी के लिये शुभकामनायें ।


Maninder Singh

72 फ़ॉलोअर्स

Shivprasad Awariya

7 फ़ॉलोअर्स

Rampal Yadav

1 फ़ॉलोअर्स

Shivprasad Awariya

7 फ़ॉलोअर्स

Maninder Singh

72 फ़ॉलोअर्स

Rampal Yadav

1 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.