Neeha Bhasin
प्रकाशित साहित्य
24
पाठक संख्या
17,663
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

मेरा नाम रचना तो नहीं है पर रचना तो मै हूँ ही मेरा नाम सपना होना चाहिए था पर मैं तो वास्तविकता हूँ, पर जिन लोगों को सब कुछ ठीक से पता है वो कहते हैं कि कुछ भी वास्तविक नहीं, तो फिर? अब ये भी नहीं हो सकता कि स्वयं को खोजने निकल जाऊँ, अब तो न जंगल बचे न पहाड़, रिज़ॉर्ट हैं वहाँ जाने से तो सिर्फ़ बैंक बैलेंस ही बिगड़े गा, रहने ही देते हैं क्या फर्क पड़ता है, यदि मै रचना हूँ तो उसमें विराम नहीं अगर सपना हूँ तो उसकी सुबह तो होने से रही, बस यही हूँ मै,


Dr. Raj Shekhar

311 फ़ॉलोअर्स

TULIKA JEENA

1 फ़ॉलोअर्स

Abhilash

1 फ़ॉलोअर्स

Seema Arya

3 फ़ॉलोअर्स

Sheepja Bajpai Tiwari

3 फ़ॉलोअर्स

Disha Singh

0 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.