Manish Pandey 'Rudra'
प्रकाशित साहित्य
38
पाठक संख्या
102,701
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

किस्सागोई, वो कला जिसने मुझे बचपन से ही काफी प्रभावित किया मुझे ठीक से तो याद नहीं पर शायद नौ साल का था मैं और तबसे मुझे लिखने का शौक लग गया। कविताओं और संगीत में मेरी रुचि कभी नहीं रही क्योंकि मैं सिर्फ़ कहानियाँ लिखता था और अक्सर मैं किसी अफीमची की तरह अपनी ही धुन में मगन रहता था क्योंकि इनसे मुझे उतना ही लगाव था जितना किसी अफीमची को अफीम से मतलब बेइंतहा...और बढ़ती उम्र के साथ इस अफीम का नशा भी बढ़ता ही गया बहरहाल उम्र के एक पडा़व पर आकर मैं अपने इस पहले प्रेम को भूल गया और एक अलग ही माया का शिकार हो गया। एक वक्त ऐसा आया जब मैं खुद को बुरी तरह बर्बाद हुआ सा महसूस कर रहा था आखिरकार प्यार की राह में ठोकर खाई थी मैंने और तब मेरी जिंदगी में आया एक किस्सा "हैरी पॉटर" जिसने मेरे भीतर के लेखक को बुरी तरह से झकझोर कर जगा दिया और महान लेखिका जे के रोलिंग की कलम का जादू मुझ पर कुछ ऐसा छाया कि मैं फिर से अपने पहले प्यार की ओर मुड़ गया और तब का मुडा़ फिर मैंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। आज उन्नीस साल की उम्र में तीस साल का तजुर्बा लेकर लिख रहा हूँ बल्कि आस-पास के रचनाकारों से कुछ सीख रहा हूँ और ताउम्र सीखता रहूँगा... उम्मीद है एक दिन मेरे तैयार किये हुए अफीम का स्वाद भी लोगों को पसंद आयेगा...


Ankit Maharshi

1,546 फ़ॉलोअर्स

लेखा चौधरी

336 फ़ॉलोअर्स

pawan

1 फ़ॉलोअर्स

Anshu Sahera

0 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.