Madan Lal Giri
प्रकाशित साहित्य
9
पाठक संख्या
6,781
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

प्रणाम ! मै मदनलाल गिरी, पहाड़ों की रानी दार्जिलिंग का रहनेवाला हूँ । बचपन से ही मुझे साहित्य मे रूची है, मै अपनी मातृभाषा नेपाली व मेरी राष्ट्रीय भाषा हिन्दी दोनों मे कविताएँ, कहानियाँ व धार्मिक लेख लिखता रहता हूँ । नेपाली भाषा के मेरे रचनाएँ स्थानीय पत्रिकाओं मे प्रकाशित हुई है, बहुत सारे धार्मिक लेख स्थानीय प्रणामी सम्प्रदाय की धार्मिक पत्रिकाओं मे प्रकाशित हुई है । मेरे दो धार्मिक पुस्तकें भी प्रकाशित हो चुकी है । मै प्रणामी निजानंद सम्प्रदाय से हूँ और शुद्ध शाकाहारी हूँ । मै प्रेम मे विश्वास रखता हूँ और जीवन के प्रति आशावादी हूँ और सभी सुधी पाठकों से मेरी रचनाएँ पढ़ स्वस्थ व निष्पक्ष प्रतिक्रिया देने की मै तहे दिल से गुजारिश करता हूँ । धन्यवाद ।। सादर-मंगल-प्रेम-प्रणाम ।?


Versa Saxena

629 फ़ॉलोअर्स

सोनम त्रिवेदी

2,181 फ़ॉलोअर्स

jyoti dhaked

60 फ़ॉलोअर्स

k agarwal

6 फ़ॉलोअर्स

Kishore Kumar

15 फ़ॉलोअर्स

Aashu Khan

19 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.