Krishna Kaveri
प्रकाशित साहित्य
65
पाठक संख्या
35,817
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

ना कोई साथी , ना कोई मंजिल , तन्हा आयें थे, तन्हा ही जाना हैं..........👣🚶 जिन्दगी वो खेल हैं , जहाँ पे शय भी आप देतें हैं , और मात भी आप ही खातें हैं..........♣️🎲 My Introduction______ Name______Krishna Singh Kaveri Education______B.Pharm , M.A (Ancient History) , M.A (Hindi Literature) Profession______Marketing Manager My biggest inspiration in life is_______my """Mother""" 👩 😃 I wish people had identified me in the author 🥀🥀शायराना quotes🥀🥀 is are my facebook group. If you are interested in beautiful quotes and thoughts please join this group for more fun.😁


Sandhya Bakshi

826 फ़ॉलोअर्स

मीना मल्लवरपु

1,398 फ़ॉलोअर्स

विश्वनाथ "आदि"

2,572 फ़ॉलोअर्स

Prannu Sam

3 फ़ॉलोअर्स

Rajendra Yadav

1 फ़ॉलोअर्स

sagar Mishra

0 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.