Khavaza Javed Mansuri
प्रकाशित साहित्य
2
पाठक संख्या
18
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

जिसे कहना चाहता हूं वह सुनने वाला नहीं मिलता जिससे सुनना चाहता हूं देखना चाहता हूं


simran Aggerwall

245 फ़ॉलोअर्स

Himanshu raghav

313 फ़ॉलोअर्स

દિપ. (ધ શાયર) "The shayar."

1,035 फ़ॉलोअर्स

hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.