Kamal Kant Agarwal "राज़"
प्रकाशित साहित्य
63
पाठक संख्या
191,261
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

अपने बारे मे क्या लिखूँ , स्वयं के बारे में तटस्थ होकर लिखना कभी आसान नहीं होता तो प्रश्न वही आता है कि आखिर क्या लिखूँ। ना तो कोई दरिया हूँ जो किसी सुदूर पहाड के आंचल से निकलकर न जाने कितने लोगो को अपना बनाता है। ना कोई ऐसा पुष्प जो अपनी सुगंध से सबको आकर्षित कर सके। ना वो बादलों की श्यामलता ही हूँ जो दहकती गर्मी मे शीतलता दे दे न ही किसी पुरवाई की उन्मत्त बहती सरगोशियों की उम्मीद हूँ । ना कोई ऐसा लेखक ही हूं , जो कर देता है मंत्रमुग्ध अपनी लेखनी से, कि भूल जायें,सूध बुध अपनी , रचना को पूरी पढ़ने के लिये सच कहुँ तो प्रतिलिपि से ही कुछ लिखने का मन में संकल्प जागा, पहली बार रचना को समर्पित इतने लोगों का सन्सार यहां देखा , अच्छा लगा। अब तो बस कोशिश करता रह्ता हूं, अपनी अधपकी , बेस्वाद खिचड़ी यहां पोस्ट करते रहने की, और उसे भी बड़े प्रेम से आप लोगो के द्वारा गृहण करते देख अभिभूत हूं। बस शायद कुछ लोगो की याद हूँ, अपने लोगो की , जो भूलना नही चाहेंगे मुझे अपने प्रेम की खातिर। खैर जो भी हूँ,आपको प्रणाम करता हूँ और आपके स्नेह का आकांक्षी हूँ । कामर्स से पोस्ट ग्रेजुएट, नैनीताल का निवासी, आपके स्नेहिल सान्निध्य का आकांक्षी, शिक्षण कर्म से विद्यार्थियों के कदमो को सही रास्ता दिखाने का आकांक्षी, समय मिलने पर मानसिक कसरत के द्वारा कुछ स्वरचित प्रस्तूत करने को बेचैन कमलकांत अग्रवाल "राज" सम्पर्क - 9319681525 फेसबुक पर आप मिल सकते हैं इस पते पर https://www.facebook.com/smaaaile एवं https://www.facebook.com/kamalkiduniya आपका स्वागत है,कृपया उत्साह वर्धन करते रहियेगा।


Niharika Goswami

76 फ़ॉलोअर्स

Sangeeta Bansal Same

10 फ़ॉलोअर्स

Ram Ashish Sah

93 फ़ॉलोअर्स

Kalpana Rawal

146 फ़ॉलोअर्स

Piya More

29 फ़ॉलोअर्स

Drrohitashav Jain

12 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.