alka
प्रकाशित साहित्य
15
पाठक संख्या
1,223
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

रात लम्बी है तो है, बर्फबारी है तो है; मौसमों के दरमियां एक जंग जारी है तो है, मूर्ति सोने की निरर्थक वस्तु है उसके लिए काँच की गुङिया अगर बच्चे को प्यारी है तो है। ............................साभार


मल्हार

521 फ़ॉलोअर्स

Vishnu Jaipuria "Vishu"

244 फ़ॉलोअर्स

Bhole RAJPUT

17 फ़ॉलोअर्स

राहुल सिंह

1,000 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.