अलका
प्रकाशित साहित्य
22
पाठक संख्या
21,862
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

रात लम्बी है तो है, बर्फबारी है तो है; मौसमों के दरमियां एक जंग जारी है तो है, मूर्ति सोने की निरर्थक वस्तु है उसके लिए काँच की गुङिया अगर बच्चे को प्यारी है तो है। ............................साभार


Nitin Mishra "novelistnitin"

3,470 फ़ॉलोअर्स

प्रखर शर्मा

6,095 फ़ॉलोअर्स

Hema Sharma

0 फ़ॉलोअर्स

Vikashree Kemwal

3,139 फ़ॉलोअर्स

Sukesh Tripathi

1 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.