Abhilasha Chauhan
प्रकाशित साहित्य
232
पाठक संख्या
12,364
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

https://experienceofindianlife.blogspot.com/2019/02/blog-post_15.html मैं हर पल को यादगार बनाना चाहती हूँ। लम्हा-लम्हा सरकती इस जिंदगी को मुट्ठी में समेटना चाहती हूँ।ये अल्फाज मेरे दिल की आवाज हैं , जिन्हें आप तक पहुंचाना चाहती हूँ। मैंने हिंदी साहित्य से एम.फिल किया है। अध्ययन-अध्यापन मेरा जुनून है। साहित्य सरोवर में डुबकियां लगाना अच्छा लगता है। परीक्षाओं से और पाठ्यक्रम से संबंधित पुस्तकें लिखती हूं। साहित्य के क्षेत्र में भक्ति काल और छायावाद के कवियों से विशेष प्रभावित हूं।जीवन के प्रति मेरा नजरिया यही है कि अतीत, वर्तमान या भविष्य की चिंताओं में न उलझकर उसके हर पल को जीना चाहिए। मन में ग्रंथियों को नहीं पालना चाहिए। दृष्टि कोण हर हाल में सकारात्मक होना चाहिए।


Swarup Acharya

65 फ़ॉलोअर्स

Nawal Kishore Singh

37 फ़ॉलोअर्स

नूपुर शांडिल्य

61 फ़ॉलोअर्स

Happy Khichi

55 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.