MUNNA "Banarasi"
प्रकाशित साहित्य
2
पाठक संख्या
756
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

हर वक्त, हर सुबह, हर शाम, ढूंढ रहा हूं मिले तो किसी मुकाम पे ऐसा मुकाम ढूंढ रहा हूं सालों पहले देखा था जिस चेहरे की झलक भीड़ में वही चेहरा मैं आज भी गुमनाम ढूंढ रहा हूं ।। ✍️-MUNNA"Banarasi"


Ranu Bindoriya "Raavi"

5,953 फ़ॉलोअर्स

Lalita Vimee

209 फ़ॉलोअर्स

Lalita Vimee

209 फ़ॉलोअर्स

Chahak Moryani "चैतन्या"

59 फ़ॉलोअर्स

Radha

10 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.