स्वाति
प्रकाशित साहित्य
14
पाठक संख्या
20,897
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

मै एक लम्हा हूँ जो अपने लम्हें से बिछड़ गयी हूँ...वो लम्हा मुझे वापस बुला रहा और उससे मिलने के लिये निरंतर लिखती जा रही हूँ...क्योकि मुझे पता की मेरा मेरे लम्हे से मिलने का वक़्त एक बार फिर से आयेगा ||


Dr Sk Saxena

3,751 फ़ॉलोअर्स

Rajendra Kumar Shastri 'Guru'

2,862 फ़ॉलोअर्स

shalini singh

2 फ़ॉलोअर्स

डॉ. प्रवीण पंकज

143 फ़ॉलोअर्स

shyam sunder Dubey

0 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.