विवेक कुमार शुक्ला
प्रकाशित साहित्य
82
पाठक संख्या
5,716
पसंद संख्या
845

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

मत पुछ इस पंछी से कहाँ जाना है, पंख पसार उड़ चले हैं, इस उन्मुक्त गगन में, जहां दिन ढल जाये, बस वहीं ठिकाना है। कल आज और कल की फिकर क्यों हो हमे, जब अपनी खिदमत् करता सारा जमाना है ।


Priya Dev

17 फ़ॉलोअर्स

dinesh kadam

159 फ़ॉलोअर्स

Sunil Shukla

335 फ़ॉलोअर्स

Patel Nilesh

391 फ़ॉलोअर्स

ANJU AGARWAL

76 फ़ॉलोअर्स

ऋषिनाथ झा

260 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.