लता शर्मा "सखी"
प्रकाशित साहित्य
263
पाठक संख्या
233,760
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

मुझे छुट्टी दे दो कुछ दिन के लिए, अब तेरी बेरुखियाँ बर्दास्त नहीं होती, कुछ दिन न मुझे याद करना, न मुझको ही तुम याद आना। मेरे सपनों से भी कुछ दिन को अपना वास्ता तोड़ जाना। जो कभी मिल जाऊँ, या फिर, कभी तेरी राह में दिख जाऊँ। यूँ मुह मोड़ लेना जैसे, अजनबी हूँ तुम्हारे लिए। सब भूल जाना मुझे भी, कुछ दिन मेरे लिए। ©सखी


टीम प्रतिलिपि

8,005 फ़ॉलोअर्स

Radha Yshi

1,425 फ़ॉलोअर्स

Radha Yshi

1,425 फ़ॉलोअर्स

JITENDER MEENA "@Jeetu"

7 फ़ॉलोअर्स

Kanta Asopa

7 फ़ॉलोअर्स

Santosh Unde

177 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.