रीता जाँगिड़
प्रकाशित साहित्य
102
पाठक संख्या
4,499
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

🔹💠🔹 "यह अरण्य झुरमुट जो काटे, अपनी राह बना ले। क्रीत दास यह नहीं किसी का , जो चाहे अपना ले।। जीवन उनका नहीं युधिष्ठिर जो इससे डरते हैं। यह उनका जो चरण रोप निर्भय होकर लड़ते हैं।।" - रामधारी सिंह 'दिनकर' 🔹💠🔹 ▪️◾निवासी - कुचेरा, नागौर (राजस्थान)◾▪️


प्रतिलिपि हिंदी

1,890 फ़ॉलोअर्स

Urmilla D

1 फ़ॉलोअर्स

manisha

76 फ़ॉलोअर्स

अनजान . "शायर"

4 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.