रितिक सिंह जादौन
प्रकाशित साहित्य
17
पाठक संख्या
426
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

लिखना तो नहीं आता बस अपनी ज़िन्दगी के सच कागज पर उतारता जाता हूँ। और वही सच सबकी जिन्दगी के भी हैं।कभी वो कविता तो कभी कहानी बन जाते हैं ।


कुलदीप कन्नौजिया

1,338 फ़ॉलोअर्स

आयुषी सिंह

5,713 फ़ॉलोअर्स

Aakash Deep

392 फ़ॉलोअर्स

Damini

838 फ़ॉलोअर्स

बवंडर बनारसी

352 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.