मिनाक्षी मिश्रा -एहसासनामा
प्रकाशित साहित्य
40
पाठक संख्या
133,098
पसंद संख्या
7,845

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

मुसाफ़िर........ अंतहीन सफ़र का मुझे जानने की कोशिश न करना, खुद को भूल जाओगे मेरी गुमनाम शख़्शियत में।। खुद से अनजान हूँ पर चेहरे पहचानती हूँ लफ़्ज़ों में लिपटी शख़्शियत को जानती हूँ। । मेरे रास्ते के देवदारों वादा है तुमसे एक दिन दरिया तुमसे होकर गुज़रेगी


Dipti Biswas

10,693 फ़ॉलोअर्स

Krishna Kaveri "KK"

811 फ़ॉलोअर्स

Dr Sk Saxena

3,766 फ़ॉलोअर्स

Santosh Unde

173 फ़ॉलोअर्स

भूमि राय

22 फ़ॉलोअर्स

Kanta Asopa

4 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.