मनोज बंसल
प्रकाशित साहित्य
22
पाठक संख्या
742
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

हिन्दी से गहरा लगाव समय के साथ और गहरा होता गया। इसी लगाव ने ''विशारद'' और "साहित्य रत्न" जैसे सम्मान सूचक शब्दों को मेरे नाम के साथ जोड़ दिया। अर्थ उपार्जन एवं खुद को स्थापित करने की कोशिश में लेखन के कुछ वर्ष व्यर्थ हो गये मगर साहित्य सदैव आत्मा में परमात्मा की तरह उपस्थित रहा। मेरे मित्र 'राजकुमार जैन' ने मुझे "प्रतिलिपि" से रूबरू करवाया और यह मुलाकात अब एक नये सफर की न रूकने वाली शुरुआत हो इसी उम्मीद के साथ................ मनोज बंसल


OM PRAKASH

79 फ़ॉलोअर्स

Rohit Mewari "Sunny"

437 फ़ॉलोअर्स

Jeet A Solanki

182 फ़ॉलोअर्स

OM PRAKASH

79 फ़ॉलोअर्स

Rohit Mewari "Sunny"

437 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.