भावना
प्रकाशित साहित्य
64
पाठक संख्या
123,229
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

नहीं बनना खास मुझे, मुझे आम ही रहने दे; न बना खुदा मुझे, मुझे इंसान ही रहने दे।


अक्षय गुप्ता

1,727 फ़ॉलोअर्स

Ankit Maharshi

3,069 फ़ॉलोअर्स

मौमिता बागची

2,309 फ़ॉलोअर्स

Neha Khandekar

26 फ़ॉलोअर्स

Manisha Singh

0 फ़ॉलोअर्स

Robin rajora

0 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.