भावना मौर्य
प्रकाशित साहित्य
63
पाठक संख्या
119,708
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

कोई भुला ना सके आसानी से मुझे, ऐसी ही दिल जीत लेने वाली परेशानी बनना है; दिलों मे तो सब बसते हैं, रूह में बसना है मुझे, नहीं बनना है मुझे किसी के भी जैसा, मुझे तो बस रूहानी बनना है 🧚‍♂️


सूरज प्रकाश

4,938 फ़ॉलोअर्स

जुनैद चौधरी

2,118 फ़ॉलोअर्स

pratilipi team writers

386 फ़ॉलोअर्स

Mansi Tibrewal

34 फ़ॉलोअर्स

Vijaykant Verma

2,519 फ़ॉलोअर्स

Krishna Vishwakarma

1 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.