विश्वजीत एम
प्रकाशित साहित्य
6
पाठक संख्या
12,979
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

मेरा कोई खास पहचान नहीं है। सवा सौ करोड़ जनता के भीड़ में मुझे ढूंड पाना आसान नही है। क्योंकि मै कोई नेता नही हूँ, अभिनेता नही हुँ, बैरिस्टर नही हुँ, डॉक्टर नही हुँ, खिलाड़ी नही हुँ, और मै कोई शिकारी भी नही हुँ । मै सिर्फ एक आम नागरिक हुँ। दो वक्त की रोटी के लिए कुछ न कुछ कर लेता हूँ। और अवकाश मिलने से मेरे कल्पनाओं के बगीचे में जो कुछ फूल पत्ते है उससे हार बनाने की कौशिस करता हूँ। पर मैं नही जानता, इसे आप स्वीकार करेंगे या नही...!


MonaRai Ghosh

1 फ़ॉलोअर्स

Rizwan Khan

19 फ़ॉलोअर्स

shahin raza

11 फ़ॉलोअर्स

MonaRai Ghosh

1 फ़ॉलोअर्स

Nayara Gurjar

56 फ़ॉलोअर्स

M.A. Rahil

1,571 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.