बरकत 'सहरा'
प्रकाशित साहित्य
42
पाठक संख्या
2,812
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

"आप किसी के क़दमों को तो रोक सकते हैं, क़ैद कर सकते हैं लेकिन उसके ख़्यालात और एहसासात को कभी क़ैद नहीं कर सकते।"


Neha Khare "Noor"

2,171 फ़ॉलोअर्स

आयुषी सिंह

5,888 फ़ॉलोअर्स

Sandhya Panday "Sanjh.."

2 फ़ॉलोअर्स

Khan Kaleem

0 फ़ॉलोअर्स

Nagraj Parihar

1 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.