प्रीति श्रीवास्तव
प्रकाशित साहित्य
17
पाठक संख्या
64,099
पसंद संख्या
4,439

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

ना शोहरतों की ख्वाहिशें ना नफरतों की गुंजाइशें ना कोई गिला हैं ना कोई शिकवा बस जिंदगी तुझे जीने की आरज़ू है।


मंजू शर्मा

171 फ़ॉलोअर्स

जहान्वी सुमन

388 फ़ॉलोअर्स

sunita shrestha

1 फ़ॉलोअर्स

manisha Puri

2 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.