प्रीति श्रीवास्तव
प्रकाशित साहित्य
17
पाठक संख्या
67,478
पसंद संख्या
4,436

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

ना शोहरतों की ख्वाहिशें ना नफरतों की गुंजाइशें ना कोई गिला हैं ना कोई शिकवा बस जिंदगी तुझे जीने की आरज़ू है।


मंजू शर्मा

183 फ़ॉलोअर्स

जहान्वी सुमन

429 फ़ॉलोअर्स

ritsu

14 फ़ॉलोअर्स

Purendra Srivastava

1 फ़ॉलोअर्स

Kapil Tiwari

422 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.