प्रीति श्रीवास्तव
प्रकाशित साहित्य
17
पाठक संख्या
49,889
पसंद संख्या
4,445

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

ना शोहरतों की ख्वाहिशें ना नफरतों की गुंजाइशें ना कोई गिला हैं ना कोई शिकवा बस जिंदगी तुझे जीने की आरज़ू है।


मंजू शर्मा

132 फ़ॉलोअर्स

जहान्वी सुमन

361 फ़ॉलोअर्स

Prajapati Mohini

0 फ़ॉलोअर्स

Shalini Rana

0 फ़ॉलोअर्स

Sujeet Harkude

0 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.