प्रदीप तिवारी
प्रकाशित साहित्य
20
पाठक संख्या
521
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

"जगे हैं जेहन में जो ज़ज्बात बनकर, कभी तो उनसे भी मुलाकात होगी"... अंतस् में बहती भावों की नदी गहरी है.. खुद को जलाकर लोगों को रोशनी देना।जीवन के प्रति आशान्वित ।अनुभूत अनुभवों को सहज अभिव्यक्त कर देना।चाहे जैसी भी परिस्थिति हो हर हाल में मुस्कुराते हुए सामना करना।हर अच्छी बात का सहर्ष स्वागत करना ।हर कोई कुछ न कुछ अवश्य जानता है ,उससे उसकी अच्छी बातें ग्रहण कर लेना।हर चेहरे के पीछे छिपे दर्द को जानने और उन चेहरों पर खुशी लाने का प्रयास करना आदत में शुमार है। दोस्तों के बगैर ज़िंदगी कुछ अधूरी सी लगती है, ईश्वर का धन्यवाद है कि कुछ सच्चे और अच्छे मित्र मेरी ज़िंदगी में हैं।माता-पिता और गुरुजनों का आशीष सदैव बना रहे इसी सदिच्छा के साथ आभार सहित आप सभी का.. प्रदीप तिवारी शिक्षा --: एम.ए.(हिन्दी)--इलाहाबाद विश्वविद्यालय, इलाहाबाद बी.एड्. सम्प्रति--:शिक्षा निदेशालय ( रा.रा.क्षे.)दिल्ली सरकार के अधिनस्थ अध्यापन कार्य।


दिलीप मकवाना

402 फ़ॉलोअर्स

प्रतिलिपि हिंदी

2,071 फ़ॉलोअर्स

कलम चाय

34 फ़ॉलोअर्स

poet:- rameenand chaurasia "rakesh"

178 फ़ॉलोअर्स

Vikashree Kemwal

3,092 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.