धीरज झा
प्रकाशित साहित्य
80
पाठक संख्या
304,891
पसंद संख्या
24,967

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

नाम धीरज झा, काम - स्वछंद लेखन (खास कर कहानियां लिखना), खुद की वो बुरी आदत जो सबसे अच्छी लगती है मुझे वो है चोरी करना, लोगों के अहसास को चुरा कर कहानी का रूप दे देना अच्छा लगता है मुझे....किसी का दुःख, किसी की ख़ुशी, अगर मेरी वजह से लोगों तक पहुँच जाये तो बुरा ही क्या है इसमें :) .....इसी आदत ने मुझसे एक कहानी संग्र लिखवा दिया जिसका नाम है सीट नं 48.... जी ये वही सीट नं 48 कहानी है जिसने मुझे प्रतिलिपि पर पहचान दी... इसके तीन भाग प्रतिलिपि पर हैं और चौथा और अंतिम भाग मेरे द्वारा इसी शीर्षक के साथ लिखी गयी किताब में....आप सब की वजह से हूँ इसी लिए कोशिश करूँगा कि आप सबका साथ हमेशा बना रहे...


Pratibha Agrahari

9 फ़ॉलोअर्स

Swati Gautam

133 फ़ॉलोअर्स

Swati Gautam

133 फ़ॉलोअर्स

kunwaranurag84@gmail.com

1 फ़ॉलोअर्स

Hemant Raghav

3 फ़ॉलोअर्स

राजीव शर्मा

0 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.