देवेन्द्र प्रसाद
प्रकाशित साहित्य
70
पाठक संख्या
355,328
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

बिना किताबों के कमरा बिना आत्मा के शरीर के समान है. आपके विचार आपके जीवन का निर्माण करते हैं। यहाँ संग्रह किये गए मेरे लेखन के अनुभव और मेरे अन्तर्मन के विचारों के हज़ारों कथन आपके जीवन में एक सकारात्मक बदलाव ला सकते हैं. मैं सच कहूँगा मगर फिर भी हार जाऊँगा, वो झूठ बोलेगा और लाज़वाब कर देगा … ☎️ 9759710666


मनमोहन भाटिया

4,447 फ़ॉलोअर्स

Dipti Biswas

8,652 फ़ॉलोअर्स

Ruchika Shrivastava

2,330 फ़ॉलोअर्स

Bilal Xkhan

3 फ़ॉलोअर्स

Riya Rahul Sharma

5 फ़ॉलोअर्स

MANiSH

59 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.