कुलदीप कन्नौजिया
प्रकाशित साहित्य
20
पाठक संख्या
238,050
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

अपने बारे में ज़्यादा तो नहीं जानता पर इतना तजुर्बा है कि मैंने हमेशा उनको गलत साबित किया है, जो मुझे गलत समझ बैठते हैं! मैं कोई लेखक नहीं बस अपने मन में चलती हलचल को कुछ शब्द दे देता हूँ। अभी-अभी लिखना शुरू किया है। एक लंबा सफर तय करना है। अपनी कमियाँ सुधारनी है, और वक़्त दर वक़्त बेहतर होते चले जाना है। और आखिर में बस इतना ही कहना चाहूँगा कि, खुदको दरिया तुम्हें दरिया की रवानी लिख दूँ। आओ गुज़री हुई मौज वो पुरानी लिख दूँ। तुम जो मिल जाओ तो मिल जाये ज़माना मुझको, लम्हे-लम्हे पर नई एक कहानी लिख दूँ।।।


Jayanti Mishra

58 फ़ॉलोअर्स

priya pandey

717 फ़ॉलोअर्स

Pritika Tripathy

222 फ़ॉलोअर्स

Yash Kumar

2 फ़ॉलोअर्स

Sudha Mishra

0 फ़ॉलोअर्स

Poonam Pathak

0 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.