कुणाल ठाकुर
प्रकाशित साहित्य
8
पाठक संख्या
1,866
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

दोस्तों मेरी जिंदगी एक खुली किताब जैसी है, जब चीजों को सहेजना चाहता था तब मेरी हाँथ से फिसलता चला गया। अब खुद को वक़्त के वहाव पर छोर रखा है, आखिर कहीं तो कोई किनारा मिलेगा।


Miss lekhini

2,855 फ़ॉलोअर्स

विपिन भट्ट

238 फ़ॉलोअर्स

Swarup Acharya

77 फ़ॉलोअर्स

Bharat Modhvadiya

142 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.