और्व विशाल
प्रकाशित साहित्य
253
पाठक संख्या
84,992
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

मैं लेखन व काव्य में सिद्धहस्त नहीं हूँ ,पर फिर वैचारिक परिपक्वता हासिल कर ली है । अपने विचारों को ही कलमबद्ध करता हूँ ,त्रुटि रह जाना स्वाभाविक है एक नए लेखक के लिए ,अत: आप भाव समझकर क्षमा कर देंगे ,यही आशा है ।


Uday Veer

207 फ़ॉलोअर्स

Alpa Mehta

201 फ़ॉलोअर्स

Rashmi Mishra

10 फ़ॉलोअर्स

Ajay Suthar

0 फ़ॉलोअर्स

Amit Saini

1,022 फ़ॉलोअर्स

Mannat Chouhan

1 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.