ऋषभ आदर्श
प्रकाशित साहित्य
48
पाठक संख्या
66,998
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

आधी रौशनी में कुछ अक्षर अधूरे नज़र आये; आईने में से झांकती शक़्ल में हम अनजाने नज़र आये... गले में चुभती सी प्यास...कुछ और चुभती है! कोई भूख भी है जो, दानों की मार से भी न मरती है! मेरी हथेलियों पर स्याही के निशान बेजा लगने लगे हैं... हम तस्वीरों में भी अधूरे लगने लगे हैं!! क्या फायदा है मेरे कहने या न कहने का?? ये शाम तो वैसे भी ढल जायेगी! यूँ तो शीत ही मिज़ाज़ है मौसम का...पर सहरा प्यास ही लाएगी!! कागजों पर पड़ती रौशनी हम ज़रा और सुलगा लेते हैं! अक्षरों का आधा और पढ़ लेते हैं... फिर शायद चुभन कम हो...मेरी कही अनकही न हो... शाम ढले तो ढले पर उसके बाद वाकई सहर हो!


Khushi Priyanka Gupta

260 फ़ॉलोअर्स

Farheen Hussain

22 फ़ॉलोअर्स

Preeti Shekhawat

450 फ़ॉलोअर्स

Ayan Khan

1 फ़ॉलोअर्स

Pradeep kumar

105 फ़ॉलोअर्स

Munni Hemabhatt

0 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.