अनिल कुमार
प्रकाशित साहित्य
69
पाठक संख्या
1,609
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

ग़ज़ल पढ़ना और उनमें शब्दों को पिरोने की कारीगरी मेरे दिल को सुकून पहुँचाती है । मैं भी कोशिश करता हूँ लेकिन ये हुनर पूरी तरह से आया नहीं है मुझे । रचनाएं, कहानियाँ, कविताएं पढ़ना बहुत अच्छा लगता है ।


Monu Pandey

1 फ़ॉलोअर्स

samar singh

6 फ़ॉलोअर्स

प्रतिभा पांडे

82 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.