अक्षय गुप्ता
प्रकाशित साहित्य
31
पाठक संख्या
167,540
पसंद संख्या
0

परिचय  

प्रतिलिपि के साथ:    

सारांश:

आ जाओ मेरी दुनिया में ,, बस मेरी कहानियों और कविताओं में कहीं डूब मत जाना ,, वर्ना निकल नहीं पाओगे । दर्द दिखाता हूँ मैं इनमें, इस दुनिया का । थोड़ा आपका , थोड़ा मेरा । क्या अपने आप को उस दर्द से बचा पाओगे ?


नीरज शर्मा "मन्नो"

8,350 फ़ॉलोअर्स

दीप्ती मेथे "दीप"

1,617 फ़ॉलोअर्स

Siddharth Lostboy

38 फ़ॉलोअर्स

Nidhi Goyal

0 फ़ॉलोअर्स

Charu Sharma

0 फ़ॉलोअर्स

Pooja Amar Khoiwal

0 फ़ॉलोअर्स
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.