रिश्ते

पुष्पलता साद

रिश्ते
(5)
पाठक संख्या − 442
पढ़िए

सारांश

रिश्ते न जाने कहाँ खो गये हम मैं और तुम भी मैं हो गये जिंदगी की शाख से जुड़े थे जो फूल न जाने पतझड़ में क्यों खो गये अपने खुद में इतने उलझे कि खुद ही खुदा हो गये जरूरी न था मिलना फिर भी मिलते अब ...
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.