ज़िन्दगी

Mitali gupta

ज़िन्दगी
(9)
पाठक संख्या − 30
पढ़िए

सारांश

वक़्त ने साथ दिए तो पैमाने भी तय करेंगे, फिर ज़िन्दगी हमें नहीं, हम ज़िन्दगी को जियेंगे। ज़िन्दगी से नजदीकियां तो हमेशा से रही, कोई चला जाय बिन बताएं तो कुसूर हमारा नही। जीने का मज़ा तो मुसाफिर ही लेते है ...
Chourasiya brajesh
वाह ,,अच्छी रचना ,,,,👌👌
रिप्लाय
Sonu Sharma
Very Nice..............................................👌👌👌👌👌 Very Nice.........................................👌👌👌👌👌👌line..................…..........................✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️ Thanks So Much................…......🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 आप की जितनी तारीफ की जाए इतनी ही कम है इसलिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद बहुत ही अच्छा लिखा यह पढ़कर बहुत अच्छा लगा आपका बहुत-बहुत धन्यवाद🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆 🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏
रिप्लाय
मनु
फिर जिंदगी हमें नहीं हम जिंदगी को याद करेंगे मेरा मानना है कि कुछ ऐसा करें हम कि मरने के बाद लोग हमें याद करें खुबसूरत शब्द रचना
रिप्लाय
Vinay Anand
बहुत अच्छे भाव
रिप्लाय
जुनैद चौधरी
us ik safar ne diye drd bht.. dukh alag. ruswai alag. judai alag bewafai alag.. khubsurt gazal h mam 👌
रिप्लाय
Himanshu raghav
bhut sundar
रिप्लाय
manoj solanki
अति सुन्दर मिताली जी
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.