ज़िंदगी दोबारा

संदेश नायक

ज़िंदगी दोबारा
(276)
पाठक संख्या − 6332
पढ़िए

सारांश

अरविंद और उमंग बड़े गहरे मित्र थे| नासमझी की उम्र में स्कूल के दिनों से शुरू हुई इनकी मित्रता, अब जवानी के साये में एक अटूट बंधन में तब्दील हो चुकी थी| स्वार्थ की गंध इस रिश्ते को छू भी नहीं गई थी| ...
Anshu Shrivastava
Heart touching!!! (Please visit www.anshushrivastava.com to know more about me and the blogs I write)
Nandkishor Kharche
पढनेवाला कुछ न कुछ अच्छा सोचके कुछ अच्छा करेगा
Ritu Sharma
बहुत सुंदर प्रेरणा देने वाली कहानी
Archana Varshney
बहुत ही बढ़िया
राजेश सिन्हा
शानदार ! बहुत ही प्रेरक कहानी है! शायद इस कहानी से समाज को भी कुछ शिक्षा मिले! हम अगर अपने अगल बगल में ऐसे लोगों की मदद करें तो निस्संदेह एक समय ऐसा आएगा कि किसी को भी किसी का मोहताज नहीं होना पड़ेगा!
sanjeev sharma
Hindustan ki asli soch to yahi thi. Satta ke bhukey or Congress ki chalo se badter ho gai hai. apna fayda ho to sub ek ho jatey hai or Desh ka फायदा hota dekh shamshan ki lakriyon ki terha gurraney legtey hai.
Geeta Rawat
very heart touching story ...
Gayatri Singh
किसी को सहारा देकर जीवन को नयी दिशा प्रदान करना वास्तव में बेहद पुण्य का काम है .... प्रेरक रचना है
Aarti Thukraal
💯💯💯💯💯💯💯💯
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.