हालात

Jitendra Moslapuriya

हालात
(3)
पाठक संख्या − 148
पढ़िए

सारांश

हालात कहाँ से कहाँ ले आते हैं, इस कहानी में इसी की बात कही गयी हैं।
Aanchal Tyagi
jitender g abhi apki kahani vidha PR acchi pakad Malum nhi hoti.ap adhik s adhik lekhan ka prayas kre .aur sath sath padhte b rhy jitna adhik pdeknge utni ki Kalam nikhregi.apke bhavisye k liye shubhkamnaye🙏
रिप्लाय
Neha Sharma
बेहतरीन रचना। शुभकामनाएं आपको। कृपया मेरी रचनाएँ मन बावरा,तीसरी आँख, एवं चिराग पर अपनी बहुमूल्य प्रतिक्रिया देकर अनुगृहित करें।
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.