हार की जीत

Minni Mishra

हार की जीत
(28)
पाठक संख्या − 5117
पढ़िए

सारांश

“ ये तो अच्छा हुआ, कुंवारा ही जा रहा हूँ ...वरना बीबी, बच्चों की फिकर वहां भी मुझे चैन से रहने नहीं देता | पर..जाते-जाते आभा को नहीं देख पाया, एकबार जी भर देख लेता ! पता नहीं...उसकी शादी हुई... या ...
Archana Rai
bahut hi Sundar
रिप्लाय
Pawan Singh
bahut hi sundar
रिप्लाय
Geeta Mishra
Our world has no work they peep in other मैटर
रिप्लाय
VeeNa Joshi
लाजवाब❤👏
रिप्लाय
Renu Bala
वाह!!! निशब्द हूँ minni जी। बहुत ही अद्भुत कल्पना की है आपने 👌👌👌👌👌हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई आपको। 💐💐💐💐💐💐😊
रिप्लाय
dheeraj
बहुत शानदार कहानी लिखी ह आपने thank u
Anshu Sharma
Reflection of indian society.. Well composed
रिप्लाय
Nabh Dwivedi
Heart touching story
रिप्लाय
Madhuri Shukla
अच्छी रचना
रिप्लाय
Suman Kumari
very good story
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.