हवा

नीतू सिंह 'रेणुका'

हवा
(191)
पाठक संख्या − 8938
पढ़िए

सारांश

शशांक भूत-प्रेतों में विश्वास नहीं रखता। ऐसी बातें करने के लिए अपनी माँ का भी मज़ाक उड़ाया करता था। वह एक बिंदास, बेबाक, हँसमुख लड़का था। मगर उसकी हँसी उस दिन गायब हो गई जिस दिन...।
Sheeba Shona
Nitu sing ji ye kya story thi mujhe kuch bhi samajh nhi aai
Mona Shaikh
aagai kya hua wo bhi batai..
Arun Goyal
ये कहानी कुछ समझ नहीं आयी . बाकि ki kahaniyo se alag . Not nice .
Uday Pratap Srivastava
अच्छी कहानी है, इसके आगे भी लिखें
punit kumar
बहुत अच्छी कहानी लिखती हैं आप
Anita
nice story next part bhi likhiye iska
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.