हवा

नीतू सिंह

हवा
(101)
पाठक संख्या − 5441
पढ़िए

सारांश

शशांक भूत-प्रेतों में विश्वास नहीं रखता। ऐसी बातें करने के लिए अपनी माँ का भी मज़ाक उड़ाया करता था। वह एक बिंदास, बेबाक, हँसमुख लड़का था। मगर उसकी हँसी उस दिन गायब हो गई जिस दिन...।
Amit Mishra
कहानी तो सही है लेकिन हिंदी कहानी में ऐसी घटना के साथ जुड़ा रहस्य भी खुलना चाहिए
Usha Garg
oh yani ki bhoot hote hai
रिप्लाय
Sweta Kumari
wo original bhabhi ka kya hua??
रिप्लाय
Kanchan Tiwari
mera mana hai kisi ke bhi bat ko andekha nahi karna chahiye
deepak mann
अछी कहानी है।। पर थोड़ी ओर आगे बढ़नी चाहिए थी। घर जाकर जब नायक इस बारे मैं बताता ओर उसे इससे बच आने के कारण ओर तरीके के बारे में बताया जाता। आदि आदि
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.