हम दोनों

Girish Kumar Gumashta

हम दोनों
(2)
पाठक संख्या − 40
पढ़िए

सारांश

आज फिर उसकी बहुत याद आ रही है,ऐसे तो जिंदगी कट ही रही हैं,लेकिन जब भी कुछ भी अच्छा होता है तो आप बहुत याद आते हो,और हां जब कुछ बुरा हो तो और भी ज्यादा, हां तब यह सोचते हैं कि शायद आप होते तो ऐसा नहीं ...
स्वाती श्रीरामे
beautiful narration ...👌 👌 beautiful story ...👍 👍
रिप्लाय
Jyoti Nigam Gumashta
बढिया कहानी
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.