हमदर्द साथी

वर्मन गढ़वाल

हमदर्द साथी
(350)
पाठक संख्या − 18164
पढ़िए

सारांश

चार जनवरी, बुधवार की रात को एक बजे उम्र में पच्चीस(25) साल का क्लीन शेव चेहरे वाला स्मार्ट और हैंडसम सुदर्शन ऑफ़िस में कुर्सी पर बैठा टेबल पर ऑवर टाइम में काम करते हुए चाँदी की ईयर रिंग चैक कर रहा ...
दिनेश वर्मा
दिल को छूने वाली कहानी
रिप्लाय
Ashutosh Ashutoshsantos
interesting
रिप्लाय
Mk Soni
Ati sunder bahut sundar kahani aur uska ant
रिप्लाय
shweta Bhardwaj
good story
रिप्लाय
Meenaxi Sukhwal
awesome story 👌👌👌👌
रिप्लाय
Madhu Chamria
nice story
रिप्लाय
Mohan kumar
कहानी की शुरूआत में जयसिंह सुजाता का प्यार सिर्फ कहानी में रोमांस डालने के लिए डाला गया है ऐसा लगता था l परंतु कहानी जयसिंह सुजाता के प्यार 🌹को पढ़ते हुए खुद को जुड़ा हुआ पाया l रामायण से एक ही शिक्षा जीवन में उतारी वह है; राम की तरह एक पत्नी व्रत l कृतिका समाज की बिगड़ैल लड़की नहीं स्वस्थ समाज ना होने का उदाहरण है l हम बच्चों को मानसिक रूप से समझने में जो भूल करते हैं l स्कूल मैं जो बच्चों को बुलिंग और टीचर की बिना गलती के सजा मिलती है ; उसका अनुभव हम लड़कों का भी होता है l सही साथ और सुधरने की इच्छा कृतिका उसका उदाहरण है l उपन्यास शिक्षाप्रद और अनुकरणीय है l शानदार लेखन वन सेटिंग में पूरा उपन्यास पढ़ गया इससे बड़ा और क्या सबूत होगा l
रिप्लाय
Darhi Baba
बहुत अच्छा
रिप्लाय
Savita Kushwaha
really incredible story
रिप्लाय
neelam taldar
कहने के लये शब्द कम पड़ जायेगे लेकिन एक चीज पूछना चाहती हु ये काल्पनिक है या सच
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.