स्वादण्डित श्राप

shobhana tarun saxena

स्वादण्डित श्राप
(145)
पाठक संख्या − 5872
पढ़िए

सारांश

कभी कभी किसी प्रकार की कमी इंसान को क्रिमिनल बना देती है, किन्तु उसके अंदर का भला इंसान उसे बर्दाश्त नही कर पाता है। किसी को माफ न कर पाना , अच्छे इंसान की सबसे बड़ी कमजोरी है।
Nidhi Sikri
क्या कहें किसे दोष दें बढ़िया कहानी
Sudhir Kumar Sharma
अद्भुत
रिप्लाय
Rachana Wadekar
कितना भयानक.
रिप्लाय
डा. अरुणा कपूर
कहानी बहुत असरदार है। सस्पेंस आखिर तक बना रहता है।
रिप्लाय
मानवी सिंह
वाह आप उत्तम कोटि की लेखिका है आप की सभी कहानियों अच्छी है कृप्या मेरी भी पढे।
रिप्लाय
अनिल कुमार
बहुत ही शानदार, क्या अंदाज पाया है आपने 👍👌👌
रिप्लाय
काव्याक्षरा
उत्तम लेखन शैली मैडम👍😊
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.