स्त्री

डॉ. इला अग्रवाल

स्त्री
(765)
पाठक संख्या − 51399
पढ़िए

सारांश

A MUST READ TRUTH OF FEMALES,MALES N OUR SOCIETY.
Ashutosh Ashutoshsantos
aaj ke samaaj ka kaalaa sach and ek RAM jo abhi vi jinda hai kisi me .......
रिप्लाय
Shubhra Rai
Awesome....kahani ki kuch line seedhe dil me utar gyi....itni sunder rachna k liye badhaai
रिप्लाय
Rakshit Raj
main padhkar hairaan hun.. bhut achha story hainn
रिप्लाय
Pramila Kumari
कुछ रचनाएँ कभी बासी नही होती हर बार नयी लगती हैं ये भी उन्हीं में से एक है एक अरसे बाद फिर से पढ़ कर मैं समीक्षा करने से खुद को रोक नहीं पायी
रिप्लाय
Divya Tiwari
Behad khoobasurat.. aisa asaadharan purush virle hi milte hain. har ek shabd dil ko chhu gya. zehan me utar gya wo line " stree prem k liye sex karti hai aur purush sex k liye prem lutata hai".... bahut sunder rachana hai aapki tarif karne k liye shabd nhi hai.
रिप्लाय
Laxmi Sharma
आपकी रचना के लिये शब्द नहीं है या ये समझ लो मन के भावों के अनुरूप नही समझ पा रही बस इतना कहूंगी दिल मे उतर गई
रिप्लाय
Jitendra Pahadwa
उम्दा रचना
रिप्लाय
Shivani Thakur
bahut sundr rachna
रिप्लाय
अनामिका गौतम
bahut bahut piyari rachna h aapki...sach bilkul alg..jo sochne par majbur kar de ki kiya sach ese log hote h aaj ki duniya m..Jaha aaj har insan dusre ka fayda uttane ko teyar h...logo ki gandi soch ke karn bishwas kam ho gaya h..👏👏
रिप्लाय
Reena singh
पुरूष सत्तात्मक समाज में स्त्री के मन की व्यथा का सटीक वर्णन किया है आपने ,प्रशंसा की पात्र हैं बहुत ही बढ़िया रचना🙏🙏🙏🙏
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.