Kshama Shandilya
Bahot vyavharik katha likhi hai aapney.
Upasna Jain
bahut badiya likha hai aapne.
Gyanendra maddheshia Gyani
बेहद शानदार और उम्दा रचना मैम।वाक्य अनुवाद यथानुकूल रहे..पढ़ते हुए ऐसे लगा जैसे कि दृश्य आँखो के समीप ही चल रहा हो।रचना उत्कृष्ट है और ये आपकी रचनात्मक क्षमता को परिभाषित करता है...स्त्री की संवेदना का बेहद भावनात्मक पक्ष पेश किया है आपने
रिप्लाय
Rucha Dingiya
बेहद सटीक चित्रण आज भी महिलाये ऐसे स्तट्स में जिंदगी गुजरती है ..... सोच को बदलना3 कीशक्ति होनी चाहिए
Beenu
Ek galat Faisla
puneeta
ye vidambana hai ki stree chahe aarthik roop se saksham ho ya aksham ....purush sada khud ko uuncha hi samajhta hai .....is soch ko badalne ke liye stree aur purush dono ko samjhna jaroori hai dono barabar hain .....aur is soch ko bachpan se hi ladke aur ladkiyon ko samjhana aavashyak hai ....aksar striyaan bhi purush ko khud ko uuncha sthaan deti hain ....
रिप्लाय
Vandana Prasad
अत्यंत ही मार्मिक रचना........बेहद भावपूर्ण...आँखें नम हो गई
हुमा सिद्दीक़ी
बहुत सुंदर वर्णन किया है स्त्रीयो का।
रिप्लाय
Archana Shrivastava
samaj ka sateek varnan.shadi ka nirnay bhuy soch samaj kar lena chahiya samaj me kre ya dusre samaj me.keemat to lady he chukayegi.samaj me karne per mayke wale sath rhte he.
ajaykumar mishra
जाति से ऊपर उठकर सोचने की जरुरत है
deepali tiwari
समाज में नारी का सही चित्रण
Nidhi Vyas
संवेदनशील कहानी
Usha Garg
काफी सही कहा है
Dinesh Gilra
बहुत अच्छी कहानी
1
2
3
4
5
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.