स्ट्रीट फूड

डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा

स्ट्रीट फूड
(31)
पाठक संख्या − 667
पढ़िए

सारांश

खुले में बिकने वाले खाद्य पदार्थों के दुष्प्रभाव पर आधारित है यह लघुकथा।
Hari Agarwal
nice
रिप्लाय
Heena kashif
hme to kuch nhi hota......hm to akser khate h......
रिप्लाय
Indira Kumari
सही कहा पर स्वाद है कि मानता नहीं खीच लेता अपनी ओर अव आगे से आपकी कहानी याद रखुंगी
रिप्लाय
Ravinder Kumar
Bilkul sahi baat
रिप्लाय
Mohammad Arif Ibrahim
😡👍✍️
रिप्लाय
S.K. Patel
bahut hi achhi information di aapne
रिप्लाय
Anuradha Chauhan
जी बहुत सुंदर सीख देती प्रस्तुति
रिप्लाय
पल्लवी राय
बिल्कुल सही👍
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.