सोने का ग़म

जितेन्द्र 'जीतू'

सोने का ग़म
(28)
पाठक संख्या − 2939
पढ़िए

सारांश

सोने का ग़म पत्नी परेशान है। मुझे लग रहा है कि सारा देश परेशान है। पूरी दुनिया परेशान है। आप वजह नहीं पूछेंगे? पत्नी इसलिए परेशान है क्योंकि भारत को ओलम्पिक में सोने का एक भी तमगा नहीं मिला। वह कहती ...
mona haiwar
देश के हालातों को बहुत ही बखुबी से दर्शाया गया है, बहुत ही अच्छा प्रयास है।
Pramila Joshi
वाह क्या अन्त अगला ओलंपिक तक आराम से सो जाय।
Samta Parmeshwar
बहुत बढ़िया।
Ram Kripal Maurya
very simple story with a sharp message,,,,,
RAJESH KUMAR SAINI
वाकई देश में सोने के मेडल की कीमत से ज्यादा अहम हो गया है जेब का भार होना, ओर ये शुरू होता है सबसे ऊपरी पायदान पर। आपने वाकई एक अच्छे टॉपिक पर शानदार बात कही है। लाजवाब !!
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.